ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

मंगलवार, 29 सितंबर 2009

Tears-----poem------byDrshyamGupta

Tears

From the corners of eyes they flow,

In the sorrow & happiness they flow.

From the troubled eyes they flow,

To tell all the lies , they flow।


One is lost in loving memories they flow,

In the warmth of loving arms they flow.

In the lone nights & gay spring wind,

They are tales from fathoms of mind।


Sung the saddest songs , they flow,

Hearing the sweetest melody they flow.

They are heart-throb pain with cheers,

Foe some just salted water,else they are tears।


Every time they are a different tale,

The deepest secrets of heart they unveil.

They flow for else’s cause,

Even flow one gets applause।


They are humble power of pious soul,

May also be a sinful quest.

Since they may be the crocodile tears,

Poised for some vested interest.

कोई टिप्पणी नहीं: