ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 5 अगस्त 2011

सेवा भाव व सेवा... असंवेदन शीलता....भ्रष्टाचार ...अनाचार....

. ...कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...


कल लगभग १० वर्ष बाद संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटयूट जाना हुआ | सुन्दर टाइल्स से, ग्रेनाईट पत्थर से , सुन्दर बना हुआ शानदार हस्पताल देख कर मन प्रसन्न होता है | कुछ देर पश्चात ही मैं अवाक् रहगया जब देखने में आया कि-- रोगियों के रिश्तेदार - स्ट्रेचर, व्हील चेयर आदि पर स्वयं ही रोगियों को घसीट कर लेजा रहे हैं जैसे -तैसे , रोगियों के बिस्तर बदलने, एक स्ट्रेचर से पलंग पर लिटाने, पलंग से स्ट्रेचर , कुर्सी पर बिठाने, जांच की रिपोर्टें आदि दौड़ दौड़ कर लाने का कार्य भी रोगियों के रिश्तेदार ही कर रहे हैं , बहुत से रोगी अपने घर के स्वयं के ही कपडे पहने हुए हैं, रोगियों(गंभीर रोगी व् आई सी यू में भी ) को दैनिक क्रियाएं --दवा खिलाना, मल-मूत्र कराना, भी रोगी के रिश्तेदार कर रहे हैं ---मज़बूरी है---- ....इन सभी कार्यों के लिए चिकित्सालयों में नर्सिंग कर्म चारी होते हैं ,वार्ड-बॉय , सफाई वाले, नर्सेस होती हैं जो तनख्वाह प्राप्त कर्मचारी हैं ..इन्ही कार्यों के लिए ......परन्तु वे कोइ भी कार्य करते नहीं दिखे.... बस साथ साथ चलते हैं कि रिश्तेदार स्ट्रेचर आदि लेकर घर न चला जाय ,.अपितु रोगी को एम्बुलेंस आदि में डिस्पोज़ के उपरांत वे यह भी अपेक्षा रखते हैं कि रोगी का साथी उन्हें व स्ट्रेचर आदि को वापस वार्ड तक छोड़ भी आये ....जबकि अच्छी खासी रकम बसूली जाती है अस्पताल द्वारा एवं प्रत्येक दवा, उपकरण का भी कीमत बसूली जाती है..........पूछे जाने पर वही बज़ट कम का राग....चिकित्सकों का कथन है कि इनलोगों की युनियन है, हम कुछ नहीं कर सकते .....लोग यह भी कहते मिले कि आजकल सब जगह यही हाल है साहब ...कोइ कर्मचारी तो काम करना ही नहीं चाहता.....प्राइवेट हस्पतालों में भी यही हाल है ....
मैं सोचने लगता हूँ कि यदि बज़ट की इतनी कमी है तो( वैसे पीजी आई के लिए बज़ट की कमी नहीं है ) शानदार ग्रेनाईट , टाइल्स , लम्बे लम्बे दालान आदि के बिना भी काम चल सकता है शो कोइ इतनी बड़ी आवश्यकता नहीं --यह बज़ट सेवा कार्यों में प्रयोग किया जा सकता है |......परन्तु वास्तव में यह हममें , समाज में ,कर्मचारियों में, मनुष्य मात्र में सेवा -भावना की कमी, असंवेदन शीलता का ही भाव है .....|
आज हम इक्कीश्वीं सदी में ...विज्ञान के उन्नतिशिखर पर ...सभ्यता के उन्नत शिखर पर पहुँच गए हैं....हम सेवा के विभिन्न कार्यों ---- मंदिरों में चढ़ावा, सोने चांदी का छत्र चढाते हैं, गरीबको खाना खिलाने का , बांटने का, निर्धन छात्रों को धन देने का, पाने पिलाने के लिए प्याऊ लगाने, पर्वों , मेलों में प्रसाद के नाम पर शरबत, पूड़ी मिठाई बांटने का कोइ अवसर नहीं छोड़ते...एन जी ओ के नाम पर, जाने कितने समाज सेवी संगठन , महिला संगठन, घर-घर, गाँव गाँव जाकर एवं न जाने कितने सेवा के कार्यों में लिप्त हैं... .कोइ १००० पेड़ लगाने का लक्ष्य का झंडा उठाये हुए है, कोइ महिला उत्थान का झंडा उठाये है....कोइ प्रौढ़ - शिक्षा की रट लगाए हुए है, .... । कोई वलात्कार रोकने की, कोई महिला उत्थान की ....सरकारें व तमाम संगठन प्रतिवर्ष समाज सेवा के पुरस्कार बाँटते हैं.......लगता है सारा समाज जन की सेवा में लगा हुआ है..... मैं सोचता हूँ हाँ ......सेवा(??) ही रह गयी है जन के मन से सेवा भाव तिरोहित होगया है......कर्मचारी पगार के लिए सेवा-योजित है सेवा के लिए नहीं ... , नौकरी करता है कमाने के लिए ----सेवा के लिए नहीं ....समाज सेवी अपने नाम के लिए सेवा करता है ,पुरस्कार के लिए .....नाम व .धंधा चमकाने के लिए | यह समाज में असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है, प्रत्येक स्तर पर...सरकार, समाज, चिकित्सक, कर्मचारी , हम.....मनुष्य मात्र ..... | उन्हें यह कौन समझाये ..बताये कि ...जिस कार्य के लिए वे सेवारत हैं , पगार लेते हैं उसे न करना ....बेईमानी है, चोरी है, भ्रष्टाचार है...अनाचार है...पाप है.....

6 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सेवा ही आधार है,मानव-विकास का।

S.N SHUKLA ने कहा…

so nice post,thanks

आशुतोष की कलम ने कहा…

हर स्तर पर असंवेदनशीलता है ..हॉस्पिटल ही क्या..सड़क पर कोई मार रहा है और हमें आफिस जाने की जल्दी होती है..ये बीमारी कैंसर से भी भयावह है ...

G.N.SHAW ने कहा…

सर बिना परिश्रम का कमाया हुआ धन चोरी के सामान ही है और आज - कल ऐसा ही हो रहा है !

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद पांडेजी...सत्य है यदि मानव को ही यथावत सेवा न मिले तो भौतिक विकास क क्या अर्थ ...विकास मानव-मात्र के लिए है न की मानव, विकास के लिए मात्र एक टूल....

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद शुक्ला जी...शा व आशुतोष...सही कहा असंवेदनशीलता प्रत्येक क्षेत्र में केंसर की भांति घर कर गयी है...अति भौतिकता के व अति-सुखाभिलाषा के कारण यह होता है |
बिना परिश्रम कमाया धन समाज में असमानता व द्वंद्व उत्पन्न करता है और परिणामी असामाजिकता ....अनाचार ...सांस्कृतिक पतन ...