ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 14 अक्तूबर 2011

बाल गीत -----विष्णु भगवान .....डा श्याम गुप्त....

                                           ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...
चित्र-- गूगल साभार
शंख-चक्र औ गदा-पद्म कर,
रूप चतुर्भुज सदा सुहाए |
मृदु मुस्कान सदा आनन पर,
सदा ध्यान-रत मुद्रा  भाये ||

शेषनाग की शैया स्थित,
श्यामल छवि मन को मोहे |
नीलकमल से लोचन जिनके ,
बैजंती माला उर सोहे ||

बच्चो ! ये भगवान विष्णु हैं ,
जो सब जग का पालन करते |
रहें  ध्यान-मुद्रा में  बहुधा,
सारे जग को देखते रहते ||

जब जब दुष्ट अधर्मी पापी,
करते जग में अत्याचार |
उन्हें मिटाने तब तब ये ही,
लेते पृथ्वी पर अवतार ||

सत्य घोष है अर्थ शंख का,
दुष्ट दमन बल गदा बताए |
सृष्टि नियामक-भाव चक्र, कर -
पद्म,  श्री-समृद्धि सुहाए ||

3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अवतारों को कार्य सफल हो।

S.N SHUKLA ने कहा…

इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें

Babli ने कहा…

बहुत बढ़िया लगा! बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण गीत ! शानदार प्रस्तुती!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
http://seawave-babli.blogspot.com