ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

प्रेस्टिज शान्तिनिकेतन, बेंगलोर निवासी संस्था द्वारा गणेश-उत्सव का प्रारम्भ ...डा श्याम गुप्त

                                 ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

                      प्रेस्टिज शान्तिनिकेतन, बेंगलोर  निवासी संस्था द्वारा गणेश-उत्सव का धूमधाम से  प्रारम्भ किया गया |  प्रथम पूज्य गणपति  के शुभागमन पर अत्यंत भव्य व सुन्दर गणेश प्रतिमा की  समस्त आवासीय परिसर में शोभायात्रा निकाली गयी  एवं  क्लब हाउस के सभाकक्ष में प्रतिमा की पूजा एवं आरती व मंत्रोच्चार के साथ विधिवत स्थापना के पश्चात निवासियों - बच्चों, युवाओं व महिलाओं द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए |
                        समारोह का मुख्य आकर्षण मुख्य अतिथि सुप्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना श्रीमती वाणी गणपति थीं  जिन्होंने सांध्यकालीन आरती व प्रसाद वितरण में भाग लिया | बच्चों के कार्यक्रम के अतिरिक्त भरत नाट्यम, दीपक-नृत्य एवं कत्थक प्रस्तुत किये गए  | रीना गुप्ता, सपना गोविल एवं आभा गुप्ता द्वारा प्रस्तुत कत्थक नृत्य की काफी सराहना की गयी |
गोपिकाओं के मध्य कृष्ण का वंशी वादन---कत्थक नृत्य

प्रथम पूज्य  गणपति

बाल-नृत्य

सुप्रसिद्ध नृत्यांगना वाणी गणपति

रीना गुप्ता ,सपना गोविल व आभागुप्ता ...कत्थक नृत्य
                      नृत्यांगना  श्रीमती वाणी गणपति द्वारा अपने अतिथि वक्तव्य में नृत्य क्या है की व्याख्या करते हुए  रीना गुप्ता के नेतृत्व में किये गए कत्थक भूरि -भूरि की प्रशंसा की गयी |

3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत सुन्दर आयोजन।

सरिता भाटिया ने कहा…

सुन्दर आयोजन
आपकी यह रचना कल बुधवार (11-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 113 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
सादर

shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद पांडे जी एवं सरिता जी.....