ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2009

बासंतिक नवरात्र एवं राम नवमी पर विशेष -

वह आदि- शक्ति ,वह प्रकृति माँ
नित नए रूप रख आती है।
उस परम- तत्त्व की इच्छा बन,
यह सारा साज सजाती है।

वह लक्ष्मी है, वह सरस्वती ,
वह माँ काली ,वह पार्वती ।
वह महा शक्ति है अणु- कण की
वह स्वयं शक्ति है कण- कण की

वह ऊर्जा बनी मशीनों की ,
विज्ञान ज्ञान- धन कहलाई ।
वह आत्म शक्ति ,मानव मन मैं ,
संकल्प शक्ति बनकर छाई।

वह प्यार बनी तो दुनिया को ,
कैसे जियें , यह सिखलाया।
नारी बनकर कोमलता का ,
सौरभ- घट उसने छलकाया।

--आदि-शक्ति परमेश्वरी ( काव्य- दूत से )



__सीता का निर्वासन ?-----
अहल्या व शबरी ,
सारे समाज की आशंकाएं हैं ;जबकि-
सीता , राम की व्यक्तिगत शंका है।
व्यक्ति से समाज बड़ा होता है ,
इसीलिये तो,
सीता का निर्वासन होता है।

स्वयं पुरूष का निर्वासन ,
कर्तव्य-विमुखता व कायरता कहाता है ,
अतः , कायर की पत्नी ,
कहलाने की बजाय ,
सीता को निर्वासन ही भाता है। --(काव्य-मुक्तामृत से)
---डॉ श्याम गुप्ता

3 टिप्‍पणियां:

veerubhai ने कहा…

your poetry has an edge over the prose,a female is a source of energy which manifest in many forms and transforms to other forms,she is the generator of this universe,can generate the same male who copulated with her in the form of a son.A male can not do this and is only a father.in its connotation also a fe-male contains a male.sasakt rachnaon ke liye badhai.

Dr. shyam gupta ने कहा…

dhanyvaad -VEERUBHAAI,
"naaree bhaav naheen thaa jabtak,
falit srishti kee swatah-prakriya,
kaise bhala safal ho paatee ?
aadhy-shakti ka huaa avtaran ,
huaa samanvay nar-naaree kaa ;
poorn huaa kram srishti yagy kaa."
--mere srishti-(eeshat ichchha ya bigbang-ek anuttarit uttar-)mahaakavy se.
sach hai veerubhai, naaree ke jab tak brahmaaji bhi upekshaa karte rahe ,maithunee srishti kee automatik naheen prarambh kar paarahe the. jab daksh ko putriyan utpann huee tabhee srishti aage chlsakee .brahma ko srishti nirmaan ka smaran bhee aadhy-shakti ,sarashvati ne karaya thaa.

Dr. shyam gupta ने कहा…

veeru ji,
this poetry is in new vidhaa of atukant poetry called AGEET_VIDHA