ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

शनिवार, 14 मई 2011

श्याम लीला...२-- रास लीला....डा श्याम गुप्त....

                                                                                ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...
                     रास लीला--
       १-नृत्य , गायन, वादन.... 
गाते धुन  वंशी  रखे  ओठों पर घनश्याम ,
नृत्य राधिका कर रहीं  वृन्दावन के धाम |
वृन्दावन के धाम, नृत्य रत सब ही गोपीं,
कुसुम ललिता आदि सभी राधा सखि जो थीं |
थकीं गोपियाँ , पैर न राधा के रुक पाते,
जब तक,श्याम' श्याम रहते वंशी धुन गाते ||

गलियाँ गलियाँ घूम कर, वृन्दावन में श्याम,
करते नव जन जागरण,वंशी धुन अभिराम |
वंशी धुन अभिराम, नृत्य रत वे राधा सन्नारी,
देतीं नव सन्देश, जगे अंचल अंचल हर नारी |
संग हुए सब गोप-गोपिका, सखा  व सखियाँ ,
श्याम हुई नव भोर , जग उठीं गलियाँ गलियाँ ||

             २-रास...
वृन्दावन के कुञ्ज में, रचें रास अभिराम,
झूमें गोपी गोपिका ,  नाचें राधा श्याम  |
नाचें राधा श्याम,  पूछते और समझाते ,
किसने क्या क्या देखा, मथुरा आते-जाते |
कौन  वर्ग, सरदार,  विरोधी हैं शासन के,,
श्याम, पक्ष में आजायेंगे , वृन्दावन के || 

              ३-महारास.... 
सखियाँ सब समझें यही,   मेरे ही संग श्याम,
सभी  गोपियाँ  समझतीं,  मेरे ही घनश्याम  |
मेरे ही घनश्याम, श्याम संग राधाजी मुसकातीं ,
भक्ति-भाव तदरूप,स्वयं सखियाँ कान्हा होजातीं |
एक ब्रह्म भाषे कण कण,माया-भ्रम सबकी अँखियाँ,
मेरे ही संग  श्याम,  श्याम'  समझें सब  सखियाँ  ||


 

3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह, क्या व्यक्त किया है?

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

प्रिय दोस्तों! क्षमा करें.कुछ निजी कारणों से आपकी पोस्ट/सारी पोस्टों का पढने का फ़िलहाल समय नहीं हैं,क्योंकि 20 मई से मेरी तपस्या शुरू हो रही है.तब कुछ समय मिला तो आपकी पोस्ट जरुर पढूंगा.फ़िलहाल आपके पास समय हो तो नीचे भेजे लिंकों को पढ़कर मेरी विचारधारा समझने की कोशिश करें.
दोस्तों,क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से
श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी लगाये है.इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ.
अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?
यह टी.आर.पी जो संस्थाएं तय करती हैं, वे उन्हीं व्यावसायिक घरानों के दिमाग की उपज हैं. जो प्रत्यक्ष तौर पर मनुष्य का शोषण करती हैं. इस लिहाज से टी.वी. चैनल भी परोक्ष रूप से जनता के शोषण के हथियार हैं, वैसे ही जैसे ज्यादातर बड़े अखबार. ये प्रसार माध्यम हैं जो विकृत होकर कंपनियों और रसूखवाले लोगों की गतिविधियों को समाचार बनाकर परोस रहे हैं.? कोशिश करें-तब ब्लाग भी "मीडिया" बन सकता है क्या है आपकी विचारधारा?

Surendrashukla" Bhramar" ने कहा…

डॉ श्याम जी -सुन्दर रचना -इस कला में आप की लेखनी अद्भुत है और आप माहिर हैं -चाहे वस सूर्पनखा हो या राधा श्याम

सखियाँ सब समझें यही, मेरे ही संग श्याम,
सभी गोपियाँ समझतीं, मेरे ही घनश्याम |

सभी प्रभु को अपना ही समझते हैं प्रभु तो एक ही हैं उनके रूप अनेक हैं लेकिन अपने भाग्य और बिभिन्न कर्मों को कर के ही उनका वरन करना संभव होता है

इसलिए बहुत जरुरी होता है अपने बिभिन्न कर्मों को मन और तल्लीनता से करना
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५