ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

गुरुवार, 5 अप्रैल 2012

जो बोले सो कुंडी खोले ...एक नाटिका ...डा श्याम गुप्त

                         ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

                       जो बोले सो कुंडी खोले  ...एक नाटिका ...डा श्याम गुप्त

                (  नगर की एक सामाजिक संस्था की शाखा सभा की एक साधारण बैठक ....)
                
                                                    दृश्य -एक
सत्येन्द्र जी ( फोन पर)--हेलो रमेश जी ! आज शाखा सभा की बैठक है,  इन्ज. रवि जी के यहाँ, चलेंगे ?
रमेश जी -- हाँ ..हाँ ..चलेंगे, रमेश जी ने तो डिनर भी रखा है । जायेंगे...जायेंगे ..।
                                           
                                                   दृश्य दो
      (  समय--सायं चार बजे....दिन ..रविवार...स्थान -इंजी. रवि जी का निवास ... इंजी. रवि गेट पर सब का अभिवादन -स्वागत कररहे हैं ।)
           आइये  आइये डाक्टर साहब..पधारें ।
           आइये वकील साहब...ओहो, नगेन्द्र जी आइये...भाभीजी नमस्कार ....नमस्कार सुधीर जी ..अरे अनिल जी ....आइये अन्दर चलें ।  आइये जज साहब ..नमस्कार ।
           सब लोग अन्दर चलकर सोफों  व कुर्सियों पर बैठते हैं। महिलायें  एक तरफ बैठी महिलाओं के ग्रुप में चली जाती हैं और बातें करने लगती हैं । अध्यक्ष जी व मंत्री अपना स्थान  ग्रहण करते हैं ।
बिमल जी ---समय तो काफी होगया । अभी कम लोग ही आये हैं ।
प्रकाश जी ---अरे यहाँ तो फिर भी काफी लोग आगये । चूड़ी वाले किशोर जी के यहाँ तो लगभग कोई पहुंचा ही नहीं । मुश्किल से किया हुआ इंतज़ाम भी काफी बेकार  गया ।
कुछ लोग एक साथ---- अरे जिनको आना था आ चुके...कार्यवाही आरम्भ की जाय ।
मंत्री जी---पहले ईश-प्रार्थना ....
                               सब गाते हैं .....वह शक्ति .......।
              प्रार्थना समाप्त होने पर मंत्री पूर्व बैठक की कार्यवाही पढ़ते हैं । सदस्य गण  बातें करते रहते हैं ।
मंत्री जी---किसी को इसमें कोई कमी,  शंका, समाधान हो तो बताएं ।  अन्यथा यह पारित समझा जाय ।
सब-- हाँ ...पारित है...पारित है...।
अनिल जी --- ( नए सदस्य हैं  दो माह पहले ही यहाँ ट्रांसफर होकर आये हैं ) एक विशेष विचार बिंदु रखना चाहता हूँ ।
सब--हाँ हाँ ...।
अनिल जी---अब तक की बैठकों में मैंने अनुभव किया है कि यहाँ के स्थानीय निवासी, व्यापारी वर्ग व  अन्य वर्ग आदि कभी बैठक में नहीं आता । इसका क्या कारण है ? क्या उपस्थिति बढाने के लिए कोई ठोस उपाय नहीं किया जा सकता, जिससे सभी वर्ग का सहयोग प्राप्त हो ?
मंत्री---यह प्रश्न कई बार उठ चुका है तथा बहुत बहस भी होचुकी है । हम किसी को जबरदस्ती तो ला नहीं सकते ।
अनिल--- पर कोई कारण तो होगा ।
कुछ सदस्य ---कोई कारण नहीं, जिन्हें  नहीं आना वे आयेंगे ही नहीं ।   
 श्रीनाथ जी---कारण क्यों नहीं है....मुख्य कारण तो यह है कि--एक तो बैठक के लिए एक निर्धारित निश्चित स्थान नहीं है ।  हर बार आधा समय तो बैठक के नए स्थान को ढूँढने में लग जाता है,  इतने बढे शहर में और बैठक में आने का प्रयोजन ही समाप्त होजाता है । हमारा आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग सकुचाता है कि अपने घर बैठक कराएं तो अन्य लोगों जैसा नाश्ता-पानी कैसे कराया जाय । सभी तो इस योग्य नहीं  हैं कि सभी को डिनर करा सकें ।
                    ( आपका क्या विचार है ...अनिल जी की तरफ देखते हैं ।)
इंज.रवि---- ये तो कोई बात नहीं है । किसी ने एसा नहीं कहा।जिस पर जैसा है वैसा खिलाये ।
श्री नाथ जी व कुछ अन्य --- कोई कहता थोड़े ही है ..बस आना और भाग लेना बंद कर देते हैं । जब हम खिला नहीं सकते तो खाने क्यों जाँय।
अनिल जी-- अन्य कई शहरों की भाँति एक नियम बन जाय कि सभी के यहाँ सिर्फ एक नग बिस्कुट आदि व एक चाय के अलावा कुछ नहीं करना है । तो शायद सभी लोग अपने यहाँ बैठक कराने  में संकोच नहीं करेंगे एवं भागीदारी भी निभायेंगे ।
प्रकाश जी---  और यदि एक जगह निश्चित होजाय एवं चाय आदि शाखा सभा के तरफ से ही हो तो शायद और अच्छा हो ।
मंत्री----  इतना अधिक धन कहाँ है शाखा के पास ।
कुछ सदस्य गण--- मासिक या वार्षिक चन्दा लिया जाय ।
मंत्री--चन्दा लेने कौन जाता है ?
अनिल-- पदाधिकारी किस लिए हैं ।
मंत्री, अध्यक्ष व इंजी. रवि---- भई अपने घर किसी को बुलाएं तो तो' एक चाय' क्या अच्छा लगेगा ।
अनिल-- भई बैठक का उद्देश्य समाज के काम और उन्नति पर विचार करना है । खाने थोड़े ही आते हैं ।
श्री नाथ जी --- कुछ लोग तो सदैव अंतिम समय पर ही आते हैं जैसे खाना ही उद्देश्य हो । अन्य बैठक आदि से कोई लेना-देना नहीं ।
                ( तभी वीरेन्द्र जी प्रवेश करते हैं, कुछ लोग अर्थपूर्ण हंसी हंसते हैं । )
श्रीनाथ -- ये देखिये सदैव की भाँति आख़िरी वक्त पर....।
विमल जी-- आखिर जन संपर्क करके कारण पता करने और उसके निवारण में क्या हर्ज़ है ।
 मंत्री अध्यक्ष इंजी. रवि व रमेश जी ---बहुत बार कोशिश कर के देख चुके हैं । सब होचुका है, बार बार  वही   प्रश्न व बहस का कोई अर्थ नहीं है ।
विमल जी-- क्यों, बार बार कोशिश करने में क्या हर्ज़ है ? बार बार प्रयत्न से ही तो सफलता मिलती है ।
श्री नाथ जी-- मैं तो दस साल से देख रहा हूँ , कभी कुछ नया व जन संपर्क करने की कोशिश ही नहीं  हुई । न हमारा महिला वर्ग ही कुछ नया कार्य या किसी बहस, विचार विमर्श में भाग लेता है । बस वही लोग सदा आते हैं और खा पीकर चल देते हैं ।
मंत्री--- सलाह देना आसान है। जो आगे आये, करके दिखाए ।
श्री नाथ जी --भई, तो फिर ये मासिक सभाएं, सामान्य सभाएं क्यों होती हैं । परामर्श कमेटी, विशिष्ट परामर्श कमेटी आदि क्यों बना रखे हैं। मंत्री अध्यक्ष को ही अपनी मर्जी चलानी है तो  वे ही जो करते हैं करें..अन्य लोग क्यों आयें ।
विमल जी -- मंत्री अध्यक्ष तो सिर्फ कार्य करते हैं,  फैसले तो सामान्य बैठक द्वारा लिए जाने चाहिए।  विशेष सलाहकार व कार्यकारी समिति मिल कर कार्यक्रम तैयार करे।
अनिल जी -- महिला वर्ग से भी तो कोई परामर्श व विचार बिंदु या उदाहरण आना चाहिए ।
                         ( महिलाओं की और उन्मुख होकर )
                       आप सब क्या सिर्फ बातें करने आते हैं । या बस सिर्फ वर्ष में एकाध बार २६ जन. आदि को खेल-कूद करने । आपके भी हर बिंदु पर विचार प्रस्तुत होने चाहिए। आप भी तो आगे आइये।  महिला शक्ति का भी तो उचित उपयोग होना चाहिए।
                         ( महिलायें चुपचाप मुस्कुराती रहती हैं )
मंत्री -- तो भैया, आप ये संभालो और करो । हम तो जैसा कर रहे हैं वैसा ठीक -ठाक ही चल रहा है ।
विमल जी -- अरे यह तो वही बात हुई , " जो बोले सो कुंडा खोले " इसलिए तो सब चुपचाप अपनी अपनी रजाइयों में सिकुड़कर बैठे हैं । जब न कोइ नया विचार, नई बात पर बहस करने, सुनने- मानने को तैयार ही नहीं है तो कौन समाज -बैठक आदि के पचड़े में पड़े ।  ये भी कम उपस्थिति होने का एक कारण है ।
इंजी. रवि -- चलिए ..चलिए  ... डिनर तैयार है, कृपया चलें ।
                             ( सब बातें करते हुए जाते हैं )
                    




7 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

बढ़िया नाटिका ,बहुत सुंदर प्रस्तुति,बेहतरीन पोस्ट,....


MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...

रविकर फैजाबादी ने कहा…

यह उत्कृष्ट प्रस्तुति
चर्चा-मंच भी है |
आइये कुछ अन्य लिंकों पर भी नजर डालिए |
अग्रिम आभार |
FRIDAY
charchamanch.blogspot.com

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अत्यन्त रोचक, मंचन योग्य।

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद पान्डे जी..... मन्चन का आयोजन कर सकते हैं..

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद धीरेन्द्र जी...व रविकर जी...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

रोचक ...करना कोई कुछ नहीं चाहता इसका सटीक उदाहरण

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद..सन्गीता जी...आभार...