ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

रविवार, 7 अक्तूबर 2012

अगीत साहित्य दर्पण (क्रमश:) अध्याय ४ - अगीत छंद एवं उनका रचना विधान.--डा श्याम गुप्त....

                                ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...


                  अगीत साहित्य दर्पण (क्रमश:)  अध्याय ४ - अगीत छंद एवं उनका रचना विधान

               अतुकांत कवितायें व गीत प्रायः बृहदाकार  होते हैं | उनमें संक्षिप्तता, वर्ण्य-सटीकता, तीब्र भाव- सम्प्रेषण के साथ ही विषय विशेष की संप्रेषणीयता के अभाव में अगीत का जन्म  हुआ और वह फला-फूला | जैसी भविष्य वाणी की गयी थी तदनुसार आज अगीत न केवल कवियों, रचनाओं व कृतियों से समृद्ध है अपितु विविध नए-नए छंदों से भी निरंतर समृद्ध होता जा रहा है | इसका प्रचार-प्रसार अंतर्राष्ट्रीय जगत में भी  हुआ है | अब अगीत हिन्दी साहित्य व विश्व साहित्य में एक सुस्थापित व समृद्ध  विधा है |
                 वर्तमान में अगीत कविता विधा न केवल हिन्दी  कविता व साहित्य की विभिन्न परम्पराओं में  एक प्रमुख धारा के रूप में जानी जाती है अपितु उत्तरोत्तर नवीन उप-धाराओं से आप्लावित होती  हुई हिन्दी व साहित्य को समृद्ध बनाने में महत्वपूर्ण योगदान कर रही है |
                   अगीत कविता का मुख्य अभिप्राय: है राष्ट्र, समाज व जमीन से जुडी वह छोटी अतुकांत कविता जो पांच से दस पंक्तियों से कम या अधिक की न हो | जिसमें लय व गति हो , गेयता का बंधन न हो एवं मात्रा- बंधन भी आवश्यक नहीं |  वर्तमान में अगीत काव्य-विधा में प्रचलित व प्रयोग होरहे विविध छंदों का नीचे वर्णन किया जा रहा है | वे छंद ये हैं-----
(१)- अगीत छंद
२-लयबद्ध अगीत
३-गतिमय सप्तपदी अगीत
४-लयबद्ध षटपदी अगीत
५-नव-अगीत
६-त्रिपदा अगीत
७-त्रिपदा अगीत गज़ल |

(१)- अगीत छंद ---सन १९६६ में डा रंगनाथ मिश्र 'सत्य' द्वारा स्थापित अगीत विधा का मूल छंद , अतुकांत कविता में संक्षिप्तता की कम से उत्पन्न व अचूक भाव संप्रेषणीयता, सामान्य भाषा में कविता की जन-जन तक पहुँच के अभाव की पूर्ति-हित प्रचलन में आया, जिसमे दोहे जैसी सम्प्रेषण शक्ति, उर्दू के शेर जैसी प्रभावोत्पादकता निहित है | अगीत छंद के मुख्य रचना-विधान नियम ये हैं----
१-अतुकांत कविता
२.सामान्यतया पांच से आठ ( अधिकतम दस ) पंक्तियों से कम व अधिक नहीं |
३.मात्रा बंधन नहीं
४.गति, यति व लय होनी चाहिए
५.गेयता, अगेयता का बंधन नहीं |
             .यथा---

"इधर उधर जाने से
 क्या होगा ;
मोड़ मोड़ पर जमी हुईं  हैं ,
परेशानियां |
शब्द -शब्द अर्थ सहित
कह  रहीं कहानियां
मन को बहलाने से
क्या होगा |"                                      ----- डा रंगनाथ मिश्र 'सत्य'

"आज उन्हें चलना होगा
शान्ति के पथ पर ,
जिन्होंने कल
हमारे खून की,
होली खेली है |"                               ------डा सुरेशचंद्र शुक्ल, नार्वे

" झरबेरी के कांटे
तुमने क्यों बांटे ?
सुबह शाम दोनों -
बोल उठे राम-राम ;
सच्चाई के गाल पर
पड़ते हैं चांटे |"                                 --- वीरेंद्र निझावन

" प्रेम विह्वलता,विरह, भावातिरेक की धारा ,
 बहती है जब मन में ,
अजस्र, अपरिमित, प्रवाहमान; तब-
गीत निस्रत  होते हैं.
सरिता की अविरल धारा की तरह  |
वही  धारा, प्रश्नों को उत्तरित करती हुई
व्याख्या, विश्लेषण, सत्य को
जन -जन के लिए उद्घाटित करती हुई,
निस्रत  निर्झरिणी बन कर -
अगीत बन जाती है |"                                     ---डा श्याम गुप्त

(२)- लयबद्ध अगीत छंद ... सन २००७  में, मैंने ( डा श्याम गुप्त ) अपना गीति-विधा महाकाव्य -प्रेम-काव्य' लिखा जो अमूर्त भाव प्रेम को नायक बनाकर लिखा गया प्रथम महाकाव्य था | इस काव्य में मैंने... प्रेम-अगीत ( प्रेम भाव खंड ) में लयबद्ध अगीतों की रचना की जो गेय -अगीत थे | इनका रचना-विधान निम्न होना चाहिए ---
१-अतुकांत गीत
२.सात से दश तक पंक्तियाँ
३.गति, लय व गेयता आवश्यक
४. प्रत्येक पंक्ति में सोलह निश्चित मात्राएँ |

उदाहरण-----
"तुम जो सदा कहा करती थीं 
मीत सदा मेरे बन रहना |
तुमने ही मुख फेर लिया क्यों 
मैंने  तो कुछ नहीं कहा था |
शायद तुमको नहीं पता था ,
मीत भला कहते हैं किसको |
मीत शब्द को नहीं पढ़ा था ,
तुमने मन के शब्दकोश में ||"                 ----प्रेम काव्य से ( डा श्याम गुप्त )

(३)-गतिमय सप्तपदी अगीत --  सन २००३ में अगीत परिषद के वरिष्ठ सदस्य व ख्याति-प्राप्त कवि श्री जगत नारायण पाण्डेय 'एडवोकेट' ने अगीत विधा में सर्वप्रथम खंड काव्य ' मोह और पश्चाताप  लिखा, उसमें पांडे जी ने अगीत के प्रचलित छंद से अन्यथा एक नवीन छंद  " गतिमय सप्तपदी अगीत" का प्रयोग किया जो उनकी स्वयं की परिकल्पना थी | इसका रचना विधान यह है ----
१.अतुकांत कविता
२.सात पंक्तियों से कम व अधिक नहीं
३.गतिमयता आवश्यक
४.गेयता होनी चाहिए |                    --एक उदाहरण देखें ....

" छुब्ध हो रहा है हर मानव
पनप रहा है बैर निरंतर ;
राम और शिव के अभाव में ,
विकल हो रहीं मर्यादाएं ;
व्याप्त  होरहा विष, चन्दन में |
पीड़ायें हर सकूं जगत की,
ज्ञान मुझे दो प्रभु, प्रणयन का ||"                 -------- मोह व पश्चाताप से (श्री जगत नारायण पाण्डेय )

(४)  लयबद्ध षट्पदी अगीत ....सन २००५  में मैं ( डा श्याम गुप्त ) डा रंगनाथ मिश्र 'सत्य'  व  पं. जगत नारायण पाण्डेय के संपर्क में आया  तथा अगीत छंदों से प्रभावित होकर अपना अगीत विधा महाकाव्य " सृष्टि"   लिखा जो अमूर्त ईश्वर व मूर्त जीव, माया, जगत को नायकत्व देकर रचा गया प्रथम अगीत महाकाव्य था | इस कृति में मैंने एक और नवीन अगीत छंद ' लयबद्ध षट्पदी अगीत ' की  परिकल्पना व प्रयोग किया जिसे बाद में  शूर्पणखा काव्य-उपन्यास में भी  प्रयोग किया गया  | इस छंद का रचना विधान इस प्रकार है ----
१.अतुकांत कविता
२.लयबद्धता व गेयता अनिवार्य
३.गतिमयता आवश्यक
४.छ : पंक्तियों से कम व अधिक नहीं
५.प्रत्येक पंक्ति में सोलह निश्चित मात्राएँ |

उदाहरण----
" परम व्योम की इस अशान्ति से ,
द्वंद्व भाव कण-कण में उभरा ;
हलचल से गति मिली कणों को ,
अप:तत्व  में  साम्य जगत के |
गति से  आहत नाद बने ,फिर -
शब्द वायु ऊर्जा जल और मन ||"                               ----सृष्टि महाकाव्य से |

       एवं ....

लोलुप भ्रमरों की बातें क्या ,
ललचाते  अतुलित  शूर वीर |
इस  तन की कृपा, प्रणय भिक्षा ,
हित, कितने ही पद-दलित हुए |
पर आज मुझे क्यों लगता है,
संगीत फूटता कण कण से ||"                          ---- ( शूर्पणखा काव्य-उपन्यास से...डा श्याम गुप्त )

५-नव-अगीत ....सन २००६ में कवयित्री श्रीमती सुषमा गुप्ता द्वारा लिखे गए एम् अत्यंत लघु अगीत पर मेरी टिप्पणी ' इतना छोटा अगीत ' के प्रत्युत्तर में अचानक उनका कथन कि ..'यह नव-अगीत' है -- से प्रेरित होकर डा रंगनाथ मिश्र सत्य की प्रेरणा व परामर्श से एक नयी धारा के अगीत छंद का सूत्रपात हुया जो पारंपरिक अगीत से भी लघु होता है | इसे नव-अगीत का नाम दिया गया | इस छंद का रचना विधान निम्न है.....
१.अतुकांत लघु अगीत छंद
२.तीन से कम व पांच से अधिक पंक्तियाँ नहीं
३.लय, गति व मात्रा बंधन से मुक्त
४. मुख्यतया: सामाजिक सरोकारों ,कटु सत्य, नवीन विचारों से युक्त परन्तु अनिवार्यता व बंधन नहीं |
 उदाहरण-----

" बेडियाँ तोडो 
ज्ञान दीप जलाओ ;
नारी ! अब-
तुम्हीं राह दिखाओ,
समाज को जोड़ो |"                               ------सुषमा गुप्ता

"मुस्तैद मित्र पुलिस 
हरदम तैयार ;
फिर भी नहीं मिली ,
उत्तम प्रदेश में-
चोरी गयी कार |"                                  -----डा श्याम गुप्त

"सावधान होजायें 
ऐसे दुमुहे 
मुझे न भाएँ ;
जो खाएं और गुर्रायें
इन दुमुहों के पास न जाएँ |"                     ---- सोहन लाल सुबुद्ध

"शब्द वेधी वाण ने 
हरे श्रवण के प्राण ;
कैकयी की वाणी ने .
वन  भेजा सुकुमार |"                                  --- पार्थो सेन  |


(६) त्रिपदा अगीत .... क्रांतिकारी,  पत्रकार, साहित्यकार , समाजसेवी व कवि पद्मश्री पं.वचनेश त्रिपाठी जो अगीत आंदोलन व अगीतायन से जुड़े थे एवं वरिष्ठ परामर्शदाता थे ; उनके निधन ( सन २००६ई) पर श्रृद्धांजलि समारोह के अवसर पर उनकी स्मृति में मैंने ( डा श्याम गुप्त ) एक अन्य नवीन अगीत छंद का सृजन किया | इसे 'त्रिपदा अगीत ' का नाम दिया गया | इस छंद को पं. वचनेश त्रिपाठीजी को ही समर्पित किया गया | इस छंद का रचना विधान यह है ----
१.अतुकांत छंद
२.तीन पंक्तियों से कम व अधिक नहीं
३.गतिबद्ध परन्तु गेयता का बंधन नहीं
४. सोलह-सोलह निश्चित मात्राओं की तीनों पंक्तियाँ |

यथा----

"श्वेत धवल दाडी लहराती,
भाल  विशाल, उच्च आभामय ;
सच्चे निस्पृह युग-ऋषि थे वे |"                      ---- वचनेश त्रिपाठी के प्रति ( डा श्याम गुप्त )

"""    प्यार बना ही रहे हमेशा ,
ऐसा सदा नहीं क्यों होता ;
सुन्दर नहीं नसीब सभी  का |"                       ----- सुषमा गुप्ता 

७- त्रिपदा अगीत गज़ल .... सन २००७ ए में मैंने ( डा श्याम गुप्त ) हिन्दी में त्रिपदा गज़ल लिखना प्रारम्भ किया , जिसे त्रिपदा अगीत गज़ल का नाम दिया | इसका रचना विधान निम्न है .....
१.त्रिपदा अगीत छंदों  की मालिका जिसमें तीन या अधिक छंद होने चाहिए |
२.प्रथम छंद की तीनों पंक्तियों के अंत में वही शब्द आवृत्ति होनी  चाहिए |
३.शेष छंदों में वही शब्द आवृत्ति अंतिम पंक्ति में आना आवश्यक है |
४.अंतिम छंद में कवि अपनी इच्छानुसार अपना नाम या उपनाम रख सकता है |

उदाहरण देखें ....

          पागल दिल 
क्यों पागल दिल हर पल उलझे ,
जाने क्यों किस जिद में उलझे ;
सुलझे कभी, कभी फिर उलझे |

 तरह-तरह से समझा देखा ,
पर दिल है उलझा जाता है ;
क्यों  ऐसे पागल से उलझे |

धडकन बढती जाती दिल की,
कहता  बातें किस्म किस्म की ;
ज्यों काँटों में आँचल उलझे  ||                         ---डा श्याम गुप्त


         बात करें
भग्न अतीत की न बात करें ,
व्यर्थ बात की क्या बात करें ;
अब नवोन्मेष की बात करें |

यदि महलों में जीवन हंसता ,
झोपडियों में जीवन पलता ;
क्या उंच-नीच की बात करें |

शीश झुकाएं क्यों पश्चिम को,
क्यों अतीत से हम भरमाएं ;
कुछ आदर्शों की बात करें |

शास्त्र बड़े-बूढ़े और बालक ,
है सम्मान देना, पाना तो;
मत श्याम' व्यंग्य की बात करें ||                     ---डा श्याम गुप्त  |



                                              ---  इति अध्याय ४  ---

                          अगीत साहित्य दर्पण ( क्रमश:) अध्याय ५ ...अगली  पोस्ट में



















1 टिप्पणी:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अगीत धीरे धीरे आधुनिक गीत बना जा रहा है।