ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

मंगलवार, 20 नवंबर 2012

नेति...नेति....... तर्क, बहस, टिप्पणी-धर्म, सोदाहरण-तात्विक विवेचना ....अथवा जो हम कहें ....

                             ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

 
                    साहित्य में ---शब्दों व अर्थों एवं उनके तात्विक भावों एवं निहितार्थों की अनदेखी  एवं हमने जो लिख दिया वही ठीक है ....के कारण काफी अर्थ-अनर्थ होते रहते हैं.... प्रायः मूल साहित्य जगत की  भाँति ब्लॉग जगत में भी साहित्यिक  ठेकेदारी  गुटवाजी , जो हम कहें वही ठीक है की भावना चल रही है....तथाकथित साहित्यिक ठेकेदार बने लोग अपनी अपनी कहन, बचन को ही सत्य मानने में लगे हैं  कोई तर्क व बहस की आवश्यकता नहीं , आलोचना नहीं चाहिए  आपकी टिप्पणियों की आपकी भी आवश्यकता नहीं है,  हटा दी जायेंगीं,    .........अन्यथा....उनका कथन होता है कि ...
प्रकाशित सामग्री पर प्रतिक्रिया लगभग बंद कर दी है अब रचना भेजने पर भी सोचना होगा ।
तर्क से  भी क्यों  डरे हैं लोग |
बस हमीं है  क्यों  करे हैं लोग |

प्रश्न  निम्नांकित दो दोहों पर विवेचना का  है .....

तन माटी का दीप है, बाती चलती श्वास.
 आत्मा उर्मिल वर्तिका, घृत अंतर की आस..

किसिम-किसिम उद्गार हैं, संयत भाषा रूप
पद प्रस्तुति अद्भुत छटा, अहा, भाव अपरूप !



                                                                         वर्तिका

Dr. shyam gupta said...
और एक जानकारी ----
तन माटी का दीप है, बाती चलती श्वास.
आत्मा उर्मिल वर्तिका, घृत अंतर की आस

---क्या बाती और वर्तिका ...समानार्थक हैं या भिन्न भिन्न ....मेरे विचार से समानार्थक हैं...अतः पिष्ट-पेषण दोष है...

उत्तर में कहा गया --- At 6:19pm on November 17, 2012,

तन माटी का दीप है, बाती चलती श्वास.
आत्मा उर्मिल वर्तिका, घृत अंतर की आस..

यहाँ पिष्टपेषण दोष नहीं है। पिष्टपेषण - पुल्लिंग, पिसे हुए को पीसना, एक ही कार्य को बार-बार करना, निरर्थक श्रम करना। - उक्त, पृष्ठ 690.
यथा: दृश्य मनोरम मंजुल सुन्दर अथवा सुध न रही, बेहोश थे, कर न रहे थे बात।
उक्त दोहे में बाती के घटने-बढ़ने और श्वास के तेज-मंद होने तथा आत्मा और वर्तिका के ऊपर उठने को इंगित किया गया है।

दोष तो अन्य प्रविष्टियों में अनेक हैं किन्तु हमारा लक्ष्य छिद्रान्वेषण अथवा परदोष दर्शन नहीं होना चाहिए। (???)   रचनाकार को गलत कहने के स्थान पर शालीनतापूर्वक उसका मत पूछा जाना चाहिए। एक ओर तो भाषा या छन्द के नियमों की बात करने पर पिछले आयोजन में रचनाकार के स्वातंत्र्य और यथावत प्रस्तुतीकरण की दुहाई दी गयी दूसरी ओर अब जहाँ त्रुटि न हो वहाँ भी त्रुटि दिखाने और फिर उस को सही कहने की हठधर्मी... मैंने इसीलिये इस मंच में प्रकाशित सामग्री पर प्रतिक्रिया लगभग बंद कर दी है। अब रचना भेजने पर भी सोचना होगा।
       अर्थात हमारी ही मान लें अन्यथा हम नहीं मानेंगे, आप कहते रहिये , तर्क व उदाहरण भी नहीं मानेंगे .....

अब आप देखें ... जानें .....

वर्ण-वर्तिका     स्त्री० [ष० त०] १. चित्रकला में अलग-अलग तरह के रंगों से बनी हुई बत्ती या पेसिल की तरह का एक प्राचीन उपकरण। २. पेंसिल। ३. तूलिका।

वर्तिका     स्त्री० [अ०वर्तिक+टाप्] १. बत्ती। २. बटेर पक्षी। ३. मेढ़ासिंगी। ३. सलाई। ४. पेंसिल की तरह का एक उपकरण जो रेखाचित्र बनाने के काम आता था।
          --भारतीय साहित्य संग्रह
   
हिन्दी - हिन्दी शब्दकोश से हिन्दी शब्द "वर्तिका" के लिए हिन्दी अर्थ
  सलाई,   पेंसिल की तरह का एक उपकरण जो रेखाचित्र बनाने के काम आता था।
   "वर्तिका" के लिये पर्यायवाची शब्द
      बीडी - सिगरेट,   दीपक बाती,  सलेट पैंसिल,  बत्ती,  तूलिका,  बटेर
  
                                                                  
                                                                     अपरूप
डा श्याम गुप्त  ने कहा....
किसिम-किसिम उद्गार हैं, संयत भाषा रूप
पद प्रस्तुति अद्भुत छटा, अहा, भाव अपरूप !

---ये भाव अपरूप ! का यहाँ क्या अर्थ निकलता है मेरे विचार में तो अपरूप = सभी दोहों के रूप भाव में त्रुटि है ....एसा भाव लगता है ....जैसे अप-संस्कृति...अप-भाव

Sun Nov 11, 02:09:00 PM 2012
उत्तर में ...कहा गया ...

             आदरणीय डॉ. श्याम गुप्तजी, मैं मूलतः विज्ञान का विद्यार्थी रहा हूँ. इस संज्ञा को मैं अपनी धमनियों में आज भी जीवित, प्रवाहित महसूस करता हूँ. आप भी सनदानुकूल चिकित्सक हैं. इस आलोक में ’अपरूप’ को पुनः देखें का मेरा सादर आग्रह है.
’वि’ का ही उपसर्ग लें. यह ’विशिष्टि’ या ’प्रकृष्टि’ का धारक तो होता ही है, ’शून्य’ या ’न होने’ का भी. हम यदि किसी एक ही मंतव्य का परावर्तन देखने का हठ कर लें तो उलझ नहीं जायेंगे, आदरणीय ?
Mon Nov 12, 03:22:00 PM 2012

डा. श्याम गुप्त said...
--तो विरूप में ...वि उपसर्ग= बिना होगा या विशिष्ट ...जैसे विकृति .....क्या विशिष्ट को अपशिष्ट या विशेष को अपशेष कहाजा सकता है ...

-- भाई ..विज्ञान में भी भाषा साहित्य से ही तो आती है...
---विज्ञान में ..वह अपर-रूप = अन्य रूप ( तत्वों आदि  के) .. होता है.....
---- जब शब्दों के अर्थ-भावों को ठीक प्रकार से जाना नहीं जाता तभी भाव-सम्प्रेषण की उलझन होती है ...उलझन को सुलझाना ही तो विज्ञान है....
Tue Nov 13, 12:47:00 PM 2012

             

डा. श्याम गुप्त said...  जैसे ....

वि - without, apart, away, opposite, intensive, different

अप-(खालीं ) अपकर्ष, अपमान;
अप-(विरुद्ध ) अपकार, अपजय.

वि-(विशेष) विख्यात, विनंती, विवाद
वि-(अभाव) विफल, विसंगति
Tue Nov 13, 12:56:00 PM 2012


निश्चयात्मक मत दिया गया .....................
वन्दे मातरम।
आपके चाहे अनुसार दो बिन्दुओं पर कुछ जानकारी प्रस्तुत है।
1.
किसिम-किसिम उद्गार हैं, संयत भाषा रूप
पद प्रस्तुति अद्भुत छटा, अहा, भाव अपरूप !

अपरूप- स्त्रीलिंग, (एलोट्रोपी अंगरेजी) जब एक ही तत्व के दो या अधिक रूप इस प्रका रपये जाते हैं की उनके भौतिक गुण भिन्न हों किन्तु रासायनिक गुणों में कोइ अंतर न हो तब वे एक दूसरे के अपरूप कहलाते हैं तथा इस विशेषता को अपरूपता कहते हैं। जैसे कार्बन तत्व के अपरूप हैं लकड़ी का कोयला (चारकोल) तथा हीरा। इनके भौतिक गुणों में अत्यधिक अंतर है किन्तु दोनों ही वायु में प्रज्वलन के उपरांत कार्बन डाई ओक्साइड का निर्माण करते हैं।
- बृहत् हिंदी कोष, संपादक लिका प्रसाद, राजवल्लभ सहाय, मुकुन्दी लाला श्रीवास्तव, प्रकाशक ज्ञानमंडल वाराणसी, पृष्ठ 63.

 उक्त के प्रकाश में आपके द्वारा किया गया प्रयोग मुझे बिलकुल सही प्रतीत हुआ है।

२-तन माटी का दीप है, बाती चलती श्वास.
आत्मा उर्मिल वर्तिका, घृत अंतर की आस..

          यहाँ पिष्टपेषण दोष नहीं है। पिष्टपेषण - पुल्लिंग, पिसे हुए को पीसना, एक ही कार्य को बार-बार करना, निरर्थक श्रम करना। - उक्त, पृष्ठ 690.
यथा: दृश्य मनोरम मंजुल सुन्दर अथवा सुध न रही, बेहोश थे, कर न रहे थे बात।
उक्त दोहे में बाती के घटने-बढ़ने और श्वास के तेज-मंद होने तथा आत्मा और वर्तिका के ऊपर उठने को इंगित किया गया है।

दोष तो अन्य प्रविष्टियों में अनेक हैं किन्तु हमारा लक्ष्य छिद्रान्वेषण अथवा परदोष दर्शन नहीं होना चाहिए। रचनाकार को गलत कहने के स्थान पर शालीनतापूर्वक उसका मत पूछा जाना चाहिए। एक ओर तो भाषा या छन्द के नियमों की बात करने पर पिछले आयोजन में रचनाकार के स्वातंत्र्य और यथावत प्रस्तुतीकरण की दुहाई दी गयी दूसरी ओर अब जहाँ त्रुटि न हो वहाँ भी त्रुटि दिखाने और फिर उस को सही कहने की हठधर्मी...                  मैंने इसीलिये इस मंच में प्रकाशित सामग्री पर प्रतिक्रिया लगभग बंद कर दी है। अब रचना भेजने पर भी सोचना होगा।

-

                 At 6:47pm on November 17, 2012,
 
आदरणीय आचार्यवर, आपके सहर्ष और उदार (???) अनुमोदन पर हृदय से धन्यवाद.
आपने ’अपरूप’ की वैज्ञानिक परिभाषा उद्धृत कर मेरे कहे को स्वर और मेरी टिप्पणी-रचना को मान दिया है. इसी तथ्य को में संकेतों में कह चुका था. किन्तु, इशारे तो किन्हीं और के लिये मान्य हुआ करते हैं.
-------( साहित्यिक परिभाषा का क्या ?)

------अब आप देखिये.......

__________________________------___________________________
अपररूपता - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर
hi.bharatdiscovery.org/india/अपररूपता
(अंग्रेज़ी:Allotropy) जब एक ही तत्त्व भिन्न-भिन्न रूपों में पाया जाता है तो ये रूप उस तत्त्व के अपररूप कहलाते हैं तथा इस गुण को अपररूपता कहते हैं। हीरा व ग्रेफाइट कार्बन के दो अपररूप हैं। अपररूपों के भौतिक व रासायनिक गुण एक दूसरे से भिन्न होते हैं ...

भास्वर - Encyklopedia
hi.efactory.pl/भास्वर
 अपररूप. भास्वर के कोई 5 अपररूप हैं -. श्वेत या पीला भास्वर; लाल भास्वर; सिंदूरी भास्वर; काला भास्वर; बैंगनी भास्वर. श्वेत भास्वर मोम जैसा मुलायम रवेदार पदार्थ होता है । इसमें लहसुन जैसी गंध होती है तथा प्रकाश में छोड़ देने पर यह ...


Largest Hindi to Hindi Dictionary - Current Hindi Word: अपररूप
pustak.org/home.php?mean=4842

     शब्द का अर्थ खोजें. अपररूप, पुं० [कर्म० स०] [भाव० अपर-रूपता] रसायन शास्त्र में किसी तत्त्व का कोई ऐसा दूसरा रूप जो कुछ दूसरे विशिष्ट गुणों से युक्त हो या कुछ भिन्न प्रकार का हो। (एल्लोट्रोप) जैसे—कार्बन नामक तत्त्व काजल, कोयले, सीसे और हीरे ...

_____________________________________________________________________________________________
         

  और .................
                    अपरूप" के लिए हिंदी-अंग्रेज़ी अनुवाद

अपरूप {विशेषण}
अपरूप [aparoop] {पु./स्त्री. वि.} (और: लहरी, सनकी, झक्की, तरङ्गी)
fantastic {वि.}
समानार्थक शब्द
अपरित्याज्य · अपरिपक्व · अपरिमित · अपरिवर्तनशील · अपरिवर्तनीय · अपरिहार्य · अपरिहास · अपरिहासशील · अपरिहासी · अपरीक्षित · अपरूप · अपर्याप्त · अपर्याप्तता · अपवर्त्य · अपवाद · अपवादक · अपविघ्नता · अपवित्र · अपवित्रता · अपवित्रीकरण · अपव्ययी


                


Largest Hindi to Hindi Dictionary - Current Hindi Word: अपरूप

 शब्द का अर्थ खोजें     
अपरूप    वि० [सं ब० स०] १. बुरे रूपवाला। कुरूप। बदशकल। २. भद्दा। वि० [सं० आत्म-रूप] परम सुंदर। (बँगला से गृहीत) उदा०—मनु निरखने लगे ज्यों ज्यों कामिनी का रूप, वह अनंत प्रगाढ़ छाया फैलती अपरूप—प्रसाद।            
Google Maps सहयत
www.google.co.in/intl/hi/help/terms_maps.html
         अन्य लोगों के कानूनी अधिकारों की हानि, दुर्व्यवहार, उत्पीड़न, अनुसरण या अन्यथा उल्लंघन (जैसे गोपनीयता और प्रचार के अधिकार);; किसी अनुपयुक्त, निंदात्मक, अतिक्रामक, अपरूप, या ग़ैर-कानूनी सामग्री को अपलोड, पोस्ट, ई-मेल या प्रेषित करना या ...
 
अपरूपित - ArvindLexicon
lexicon.arvindlexicon.com/.../ArvindLexiconHTML....

          विद्रूपक - disfigurer - vidrUpaka ​. अपरूप करना ​. तोड़ना मरोड़ना - distort - tod.anA marod.anA ​. अपरूपता ​. कुरूपता - ugliness - kurUpatA ​ · फूहड़पन - sloppiness - phUhad.apana ​ · भँडैती - bhandaitee - bhanDaetI ​. अपरूपित ​. विद्रूपित - disfigured - vidrUpita ​. Hindi. विद्रूपित ​वि ​ ...
-------sea monster  समुद्री अपरूप प्राणी, समुद्री दानव...

    
Vidyapati - Google पुस्‍तकें परिणाम
books.google.co.in/books?id=0eWvGQAn7NwC

               इसीलिए उन्होंने प्राय: 'अपरूप' या सौंदर्य की अब की एक सजीव पदार्थ के रूप में ग्रहण किया है । जब वे राधा या कृष्ण के रूप का वर्णन करने लगते हैं तो सचेष्ट रूप से इतना कहना नहीं भूला कि इस 'अपस ने सम्पूर्ण त्रिभुवन को विजित कर लिया है, यह अपरूप ...

बोली, बानी और भाषा की बात हो तो स्वभाविक है कि मैथिली की चर्चा होगी. हाल ही में
दिल्ली में संपन्न हुए भारतीय भाषा उत्सव, समन्वय की मूल अवधारणा इसी के
इर्द-गिर्द थी. एक सत्र ‘प्रेम की अपरूप भाषा: भाषा का अपरूप प्रेम’ के ऊपर था.
अपरूप शब्द विद्यापति की कविताओं में बार-बार आता है
‘रसप्रिय
  ’ में फणीश्वरनाथ रेणु
भी चरवाहे मोहना को देख कर अपरूप रूप की बात करते हैं.
...
कहे माधव, “यह अपरूप भाषा,
·नदिया में नित्य ऐसे विलासा ।“

bhardwaj'sblog: अकेलापन न देना
bhardwajsblog.blogspot.com/2010/.../blog-post_22.h...

             22 अक्तू 2010 – पर अकेलापन न देना आग सा जलता रहेगा प्रिय बिना यौवन न देना भीख माँगे मृत्यु से जो वह विवश जीवन न देना एक पत्थर के ह्रदय में प्यार की धड़कन न देना रूप को अपरूप कर दे धुंध में दर्पण न देना माँग में सिन्दूर के बिन चूड़ियाँ कंगन न देना ...
 

रस अजस्र - Jagran Yahoo! India
in.jagran.yahoo.com/news/.../8_14_8364208.html

16 अक्तू 2010 – वेणुनाद-संकेत समझती अपने अपार 'अपरूप' सौंदर्य का भार( यह सौन्दर्य भार है क्योंकि वह अपरूप है सामान्य से बहुत अधिक ...मानव मन---स्वयं व अन्य -- को विकृत कारी भाव का हेतु  है ) लिये कृष्ण समीप राधिका का आगमन। मैथिल कोकिल की इस कल्पना में वय:संधि को पार करती राधा सद्य:स्नाता रूप में कृष्ण के साथ आ खड़ी होती है और तभी पदावली का सृजन होता है।



 अन्य उदाहरण ---साहित्यिक---

...Innerself..अंतस..—blog

Gaurav
India
    
तो अनादि अनंत,
अपने अपररूप,
लेखनी से कहता है.....
..

देख मैं तू बन कर,
खुद को रच रहा हूँ........     == अन्य रूप = अपर रूप

शाश्वत शिल्प
हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए समर्पित verma mahendra55@gmail.com

नवगीत
पल-पल छिन-छिन बीत रहा है,
जीवन से कुछ रीत रहा है।

                    सहमे-सहमे से सपने हैं,
                    आशा के अपरूप,                    ----- अर्थात विपरीत अर्थात्मक
                    वक्र क्षितिज से सूरज झाँके,
                    धुँधली-धुँधली धूप।

तरस न खाओ मेरे हाल पर,
मेरा भव्य अतीत रहा है।
पल-पल छिन-छिन बीत रहा है,
जीवन से कुछ रीत रहा है।
        कामायनी -----
मनु निखरने लगे
ज्यों-ज्यों यामिनी का रूप,
वह अनंत प्रगाढ
--छाया फैलती अपरूप,  -------  छाया विचित्र रूप में फैलती हुई...

 

---शिव बारात -----
सब विरूपित ,विकृत सब आधे अधूरे ,
चल दिए पाकर कृपा का हाथ ,
अंध कोढी विकल-अंग विवस्त्र विचलित वेश
कुछ निरे कंकाल कुछ अपरूप
विकृत और विचित्र देही विविध रूप अशेष

अंग-हत कंकाल ज्यों हों भूत -प्रेत-पिशाच !
नाचते आनंद स्वर भर भर गान परम विचित्र,
बन बराती चल दिए संग .
*
चतुर्वेदी इतिहास 10 - ब्रज डिस्कवरी
hi.brajdiscovery.org/index.php?title=चतुर्वेदी..
.
5 जुलाई 2010 – ... (यूनानी अरवी विलोची) यवन और पल्लव (पहलवियों) का निर्मूल करना चाहा तब महाकृपालु वशिष्ठ ने इन्हें केवल अपरूप बनाकर शिखा हीन दाढी युक्त करके क्षमा कर दिया, तभी से वे वशिष्ठ मुनि के शिष्य हो गये और विश्वमित्र के वशिष्ठ आश्रम ...
 
Samresh Basu - Google पुस्‍तकें परिणाम
books.google.co.in/books?isbn=8180311376
Samaresh Basu - 2007

लेकिन हीरेन ने उसमें पंखारपन नहीं देखना चाहा है यह तो रूप नहीं अपरूप है । यह तो बीभत्स और भयानक है । तभी वह नौजवान झाड़-शर पता नहीं कहाँ से आ गया है उसने खामोशी को तोड़ते हुए कहा, "बाबू जी, आप लम कीजिए, मैं रसिया से शादी करूँगा ।'' शादी ।


दिनकर -----

कौंतेय भूमि पर खड़े मात्र हैं तन से ,
हैं चढ़े हुये अपरूप लोक में मन से ।
वह लोक , जहां विद्वेष पिघल जाता है

कर्कश , कठोर कालायस गल जाता है ;--dinkar


यह अपरिमित रूप-श्री ,बुझती नहीं मेरी पिपासा ,
हृदय लोभी ,देख यह सुषमा ,रहा जाता ठगा सा !
झलमलाती ऊर्मियाँ या स्वयं विधि की चित्र रेखा ,
किस नयन ने आज तक भी रूप वह अपरूप देखा !

* प्रेम-3
प्रेम के डेरे नही होते,
प्रेम
प्रायः अपरिभाषित,अनिर्वाचित
और अननुभूत रह जाता है
क्यूँकि प्रेम अपरूप होता है!

       
झरोख़ा: नीति ,नीयत और नियति
nivedita-myspace.blogspot.com/.../blog-post_16.html

        16 जून 2012 – ... थोड़ी गति पकड़ता है ,हमारी नीयत बदलने लगती है | हम चाहने लगते हैं कि सबसे सुंदर पौधे ,हमारे घर की तरफ लगें ,बेशक उससे पार्क का प्रारूप ही अपरूप लगने लगे | अब हमारी इस नीयत से पार्क के सौन्दर्यीकरण की नियति तो प्रभावित होनी ही है !
 
GHAZAL - 14
Posted by Abhay Kant Jha Deepraaj on December 18, 2010 at 2:00am
View Blog  open books online
                               ग़ज़ल

बहुत  विषैला  है  विष  यारो,  दुनिया   की  सच्चाई  का |
आखिर,   कैसे  दर्द  सहें  हम,  दिल  में  फटी बिवाई का ||

बनकर  इन्सां  जीते - जीते  खुद  को  हमने  लुटा  दिया,
फिर  भी  तमगा मिला न हमको एक अदद अच्छाई का ||

वे  रिश्ते  जो  कल तक हमको, अपना सब कुछ कहते थे,
आज  वही  हमको  कहते  हैं -  एक  अपरूप  बुराई   का ||
 
कहानी  थैंक यू अंकल
raviwar.com/.../89_story-thankyou-satishjayaswal.sht...

1 अक्तू 2008 – और वही समझ पाया कि कोई क दुर्घटना जीवन को इतना अपरूप नहीं कर सकती जितना कि मदालसा भयभीत हो उठी. मदालसा ने बेटे को मामा के पास से उठाया. और अपनी छाती के साथ लगाकर खूब दुलराया. ऐसा लगा जैसे कई सदियों से दूर रहा, उससे उसका ...



अर्थात मेरे  विचार से  ---मूलतः यह निष्कर्ष  निकलकर आता है------

.बाती  एवं वर्तिका ...समानार्थक हैं .....कहीं-कहीं   साहित्य में वर्तिका शिखाग्र  या दीप-शिखा, ज्योति   के लिए भी प्रयोग होता है ...परन्तु यह उचित नहीं कहा जा सकता ....


२- अपरूप --का निश्चित ही अर्थ विकृत रूप ही है .......
   (अ )---- सभी साहित्यिक उदाहरणों में  इसका अर्थ विकृत रूप ही स्पष्ट होता है |
    (ब)------मैथिली , मराठी आदि भाषाओं में ...अपरूप को विचित्र के तात्पर्य के साथ ...असामान्य के सहितार्थ लेते हुए अपार सौन्दर्य , सौन्दर्य से परे ( जो सौन्दर्य की मूल प्रकृति से विलग, सामान्य से अलग ...स-विकार  --उच्चतम वि-कृत ) परम सुंदर (बँगला से ), अपूर्व , अपरिभाषित, कल्पना से परे  सौन्दर्य, अवर्णनीय, अनिर्वचनीय, मानवीय से परे   ...हेतु प्रयोग किया गया है ......मूलतः विद्यापति दारा (.हो सकता है उन भाषाओं में यही शब्द होता हो परन्तुमेरे विचार से  हिन्दी में एसा नहीं ,यदि कहीं  प्रयोग है  तो सही नहीं है ).......परन्तु निश्चय ही विद्यापति द्वारा  वह सिर्फ राधा  या कृष्ण या राधा-कृष्ण के ईश्वरीय , मानवीय सौन्दर्य से परे सौन्दर्य के लिए प्रयोग किया गया है ...किया जा सकता है ... अर्थात सौन्दर्य से  परे, अपरिभाषित  जो आदि-शक्ति...अनादि-माया का , ईश्वरी का ही हो सकता है मानवीय सौन्दर्य नहीं .....  इसे साधारण मानवीय कथ्यों में प्रयोग नहीं  होना चाहिए ....


३-विज्ञान में .... यह अपर रूप है ..अपरूप नहीं ..... कहीं कहीं जैसा उदाहरण दिया गया है, कुछ ग्रंथों में  हीरा, कार्बन आदि के अपरूप कहा गया है .....जो मूलतः विज्ञान के साहित्यिक ...आलेखों में  इसका साहित्यिक अर्थ न जानने के कारण त्रुटिपूर्ण है.... क्योंकि अपर का अर्थ अन्य एवं अतिरिक्त  होता है...... विज्ञान में तत्वों /यौगिकों के मूल से अन्य, अतिरिक्त  विविध रूपों को विकृत रूप नहीं कहा जा सकता , यदि विकृत रूप मानें तो अपरूप शब्द ठीक कहलायेगा, ...अन्यथा वे अन्य रूप  हैं ...अपररूप ....


                    नेति...नेति.....अभी और भी बहुत स्थान  है टिप्पणी, विवेचना, बहस व तर्कों के लिए .....

1 टिप्पणी:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति..