ब्लॉग आर्काइव

डा श्याम गुप्त का ब्लोग...

मेरी फ़ोटो
Lucknow, UP, India
एक चिकित्सक, शल्य-चिकित्सक जो हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान व उसकी संस्कृति-सभ्यता के पुनुरुत्थान व समुत्थान को समर्पित है व हिन्दी एवम हिन्दी साहित्य की शुद्धता, सरलता, जन-सम्प्रेषणीयता के साथ कविता को जन-जन के निकट व जन को कविता के निकट लाने को ध्येयबद्ध है क्योंकि साहित्य ही व्यक्ति, समाज, देश राष्ट्र को तथा मानवता को सही राह दिखाने में समर्थ है, आज विश्व के समस्त द्वन्द्वों का मूल कारण मनुष्य का साहित्य से दूर होजाना ही है.... मेरी दस पुस्तकें प्रकाशित हैं... काव्य-दूत,काव्य-मुक्तामृत,;काव्य-निर्झरिणी, सृष्टि ( on creation of earth, life and god),प्रेम-महाकाव्य ,on various forms of love as whole. शूर्पणखा काव्य उपन्यास, इन्द्रधनुष उपन्यास एवं अगीत साहित्य दर्पण (-अगीत विधा का छंद-विधान ), ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा काव्य संग्रह), कुछ शायरी की बात होजाए ( ग़ज़ल, नज़्म, कतए , रुबाई, शेर का संग्रह) my blogs-- 1.the world of my thoughts श्याम स्मृति... 2.drsbg.wordpres.com, 3.साहित्य श्याम 4.विजानाति-विजानाति-विज्ञान ५ हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान ६ अगीतायन ७ छिद्रान्वेषी

बुधवार, 22 जनवरी 2014

Two follies...दो गलत वक्तव्य ..... डा श्याम गुप्त....

                                             ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

                                वास्तविक ज्ञान की कमी, जीवन-दर्शन, अध्यात्म, मानवीय तत्व व व्यवहार  एवं  जीवन व्यवहार के ज्ञान व अनुभव की कमी   (व्यवसायिक एवं किसी भी विशिष्ट ज्ञान को जानकारी कहा जाता है ज्ञान नहीं ..अध्यात्म में इसको अज्ञान कहा जाता है )  इस प्रकार की  भ्रामक सोच ..विचार एवं  वक्तव्यों (follies)  की जननी व परिचायक होती है और लोग बड़े शान से दे देते हैं ..बिना विचारे......दो उदाहरण देखिये ...

1.--- never feel that you are different from men ....निश्चय ही अनुचित, भ्रामक एवं  गलत सोच है....यदि यह सत्य होता तो ईश्वर..प्रकृति...या विकास-प्रक्रिया...जिसे भी आप मानते हों....क्या इतनी मूर्ख होती जो दोनों को पृथक-पृथक बनाती ...प्रजनन के तो अन्य तमाम तरीके हो सकते हैं...होते भी हैं | प्रजनन  से अन्यथा अन्य भी पृथक-पृथक कार्य हैं स्त्री -पुरुष के  ...मिलकर साथ-साथ एवं स्वतंत्र रूप में भी ...| अतः अंतर (different) तो है ही क्या हम इससे आँख मूँद सकते हैं ...नहीं ... being in charge ....does not mean superior or being not different from men ...


हाँ यह कहना सही होगा कि.......स्वयं को पुरुष से कम न समझें ....एक ही रथ के दो पहिये समझें एक दूसरे को.....  देखिये रचनाकार ने कितना सटीक कहा है----

"नारि पुरुष में अंतर तो है 
सदा रहा है सदा रहेगा |
भेद बना  है भेद  रहेगा ,
भेद भाव व्यवहार नहीं हो |""     ---- शूर्पणखा काव्य-उपन्यास से...


 2.The main thing is to be a good citizen wherever you operate ... it should have been .....

-----.The main thing is to be a good... citizen..human wherever you operate....जब तक आप अच्छे मानव नहीं  हैं ...आप कुछ भी अच्छे नहीं बन सकते .....अच्छे  नागरिक तो सिर्फ  क़ानून के पालन के लिए भी बन सकते हैं .....जो अधिकाँश लोग करते हैं .....|


2 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक अवलोकन।

shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद ...